Hanuman Chalisa का पाठ करें नियमित रूप से हनुमान जी होंगे प्रसन्न

hanuman chalisa

Hanuman Chalisa गोस्वामी तुलसीदास की काव्य रचना है. कहा जाता है कि नियमित रूप से इसका जाप करने से जीवन की बाधाएं और बड़े से बड़े संकट दूर हो जाते हैं. यदि आप रोजाना हनुमान चालीसा का पाठ (Hanuman Chalisa Path) नहीं कर पाते तो प्रत्येक मंगलवार और शनिवार के दिन इसका पाठ जरूर करें. हर मंगलवार और शनिवार को हनुमान चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति की हर मनोकामना पूरी हो सकती है. ऐसी मान्यता है कि कलियुग में एक मात्र हनुमान जी (Hanuman Ji) ही जीवित देवता हैं.

ये अपने भक्तों और आराधकों पर सदैव कृपालु रहते हैं और उनकी हर इच्छा पूरी करते हैं. हनुमान चालीसा का पाठ करने से जीवन में कई तरह के चमत्कारी बदलाव देखने को मिलेंगे. चलिए जानते हैं हनुमान चालीसा का पाठ (Hanuman Chalisa Path) करने से कौन से फायदे मिलते हैं…

Hanuman Chalisa के फायदेआर्थिक संकट से आपको मुक्ति पाने के लिए नियमित हनुमान चालीसा का पाठ करें. हनुमान जी को अष्टसिद्धि और नवनिधि का दाता माना जाता है. मान्यता है कि जो व्यक्ति नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करता है. उसकी हर मनोकामना हनुमान जी पूरी करते हैं चाहे वह धन संबंधी इच्छा ही क्यों न हो.

Hanuman Ji की प्रतिमा पर सिंदूर और चोला चढ़ाने के नियम क्या है? जानिए इससे क्या क्या फायदे होते हैं?

Astrology के अनुसार यदि आपके मन में किसी भी प्रकार का भय है तो रात को सोने से पहले हनुमान चालीसा का पाठ करें. हनुमान चालीसा का एक दोहा (Hanuman Doha) है ‘भूत पिशाच निकट नहीं आवे, महावीर जब नाम सुनावे. इस दोहे के अनुसार जो व्यक्ति नियमित रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करता है उसके आस-पास भूत-पिशाच और दूसरी नकारात्मक शक्तियां नहीं आती हैं.

इसके अलावा यदि आप मानसिक अशांति से परेशान हैं या आपको नींद नहीं आ रही है, तो हनुमान चालीसा का पाठ मानसिक शांति देता है. साथ ही इसका पाठ जीवन में उन्नति दिलाता है.

छात्रों को नियमित हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए. कहा जाता है कि छात्रों को हनुमान चालीसा का पाठ करने से स्मरण शक्ति बढ़ती है और शिक्षा के क्षेत्र में कामयाबी मिलती है. हनुमान चालीसा के अनुसार ‘विद्यावान गुनी अति चातुर. राम काज करिबे को आतुर..’ यानी हनुमान जी स्वयं बुद्धिमान, गुणी और चतुर हैं. इसीलिए छात्रों को इसका पाठ अवश्य करना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *