Zomato कर रहा कर्मचारियों की छटनी, को फाउंडर ने दिया इस्तीफा

zomato

Zomato Lay Offs: फूड एग्रीगेटर एप जोमैटो (Zomato) ने भी कंपनी में छंटनी का रास्ता अख्तियार कर लिया है। खबरों के मुताबिक इसी हफ्ते जोमैटो ने कंपनी में लोगों को नौकरी से निकालने का काम शुरू कर दिया है। मौजूदा चुनौतीपूर्ण माहौल में कंपनी को मुनाफे में लाने और इसकी लागत कम करने के क्रम में ये छंटनी की जा रही है।

मनीकंट्रोल की एक रिपोर्ट के मुताबिक ये खबर आई है। खबर में इस मामले की जानकारी रखने वाले लोगों का हवाला दिया गया है जिन्होंने बताया है कि इस छंटनी का असर 100 कर्मचारियों पर आ भी चुका है। ये एंप्लाइज कंपनी के अलग-अलग फंक्शन्स से जुड़े हुए हैं जैसे प्रोडक्ट, टेक, कैटलॉग, मार्केटिंग से इनका वास्ता रहा है। हालांकि बताया जा रहा है कि कंपनी की सप्लाई चेन से जुड़े लोगों पर इसका असर नहीं आया है, लेकिन जोमैटो (Zomato) की कुल वर्कफोर्स में से 4 फीसदी लोगों को नौकरी से निकालने की योजना है।

एक सूत्र ने नाम ना बताने की शर्त पर कहा है कि अब उन लोगों को जाने के लिए कह दिया गया है जो प्रोडक्ट को नया रूप देने के लिए काम कर रहे थे। अब जब प्रोडक्ट का काम पूरा कर लिया गया है तो इनका रोल बेमानी हो चुका है। जिन लोगों को जाने के लिए कहा गया है लो ज्यादातर मध्यम से सीनियर रोल वाले लोग हैं। एक अन्य सूत्र ने इस बात की जानकारी दी है कि जोमैटो (Zomato) के फाउंडर और सीईओ दीपेंदर गोयल ने कुछ दिन पहले टाउनहॉल आयोजित किया था जहां उन्होंने इस बात के संकेत दे दिए थे कि कंपनी के जो फंक्शन या सेगमेंट अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं उनमें जॉब कट किए जा सकते हैं। इसके अलावा सूत्रों ने ये भी बताया कि क्लाउड किचन के लिए काम करने वाले कुछ मैनेजर्स को पहले ही रिप्लेस कर दिया गया है।

एक दिन पहले ही खबर आई है कि जोमैटो के को-फाउंडर मोहित गुप्ता (Zomato Co-Founder Mohit Gupta) ने कंपनी से इस्तीफा दे दिया है। इसे मिलाकर पिछले तीन हफ्तों में कंपनी के तीन शीर्ष अधिकारी जोमैटो से एग्जिट ले चुके हैं। मोहित गुप्ता के अलावा न्यू इनीशिएटिव हेड राहुल गन्जू और इंटरसिटी हेड सिद्धार्थ झेवर ने कंपनी छोड़ दी है। इन्हें देखते हुए पहले ही आशंका जताई जा रही थी कि कंपनी में सीनियर मैनेजमेंट लेवल पर कुछ दिक्कतें हैं और अब ये छंटनी की खबरें इन संकेतों को और पुख्ता कर रही हैं।

हालांकि जोमैटो (Zomato) ने इस बारे में पूछे गए सवालों का कोई जवाब नहीं दिया पर यहां ये ध्यान रखने वाली बात है कि देश और विदेश में बहुत से स्टार्टअप्स बड़े पैमाने पर छंटनी कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *